आज समाहरणालय सभाकक्ष में जिला सुरक्षा समिति का बैठक हुआ संपन्न

0
126

मुजफ्फरपुर: जिलाधिकारी मुजफ्फरपुर प्रणव कुमार की अध्यक्षता में आज समाहरणालय सभाकक्ष में जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक हुई। बैठक में जिलाधिकारी ने यातायात नियमों को कड़ाई से पालन ,वाहनों पर स्पीड गवर्नर ,ओवरलोडिंग, सेफ ड्राइविंग प्रेशर हॉर्न के विरूद्ध कार्रवाई करने का निर्देश दिया। सड़कों पर पर्याप्त संख्या में साइनेज लगवाने का निर्देश दिया गया। अवैध पार्किंग करने पर टेंपू इत्यादि के विरूद्ध कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया। जिलाधिकारी ने कहा कि ऐसे नागरिकों की (गुड सेमेंरीटन) की पहचान करें जो विशेष अवसर पर सड़क दुर्घटना में घायल लोगों की मदद करते हैं। जिलाधिकारी ने सड़क सुरक्षा के दृष्टिकोण से मुख्य सड़कों पर पेट्रोलिंग लगातार करते रहने तथा सघन चेकिंग कराने का निर्देश दिया ।हेलमेट चेकिंग, सीट बेल्ट चेकिंग लगातार चलाने एवं नियमानुसार जुर्माना राशि वसूल करने का निर्देश दिया गया।

बैठक में उपस्थित उदय शंकर सिंह अध्यक्ष बिहार ट्रांसपोर्ट मोटर संघ ने बताया कि चांदनी चौक से लेकर कच्ची पक्की के आगे तक एनएच को कई जगहों पर अतिक्रमित किया गया है जिसे अतिक्रमण मुक्त कराने के दिशा में प्रभावी कार्य करने की जरूरत है।वही बैठक में उपस्थित श्री एआर अन्नू अध्यक्ष ऑटो कर्मचारी संघ के द्वारा अनुरोध किया गया कि चिन्हित ऑटो स्टैंड को शीघ्र खाली कराई जाए एवं वहां ऑटो स्टैंड का बोर्ड लगाया जाए।जिलाधिकारी द्वारा इसके लिए अनुमंडल पदाधिकारी पूर्वी ,अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी एवं एमभीआई की संयुक्त टीम का गठन किया है।
बैठक में उपस्थित जिला परिवहन पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि जिलाधिकारी के निर्देश के आलोक में पिछले दिनों औचक वाहन जांच अभियान चलाया गया जिसके तहत 343 वाहनों के विरुद्ध कार्रवाई करते हुए 74,27,500 रुपये जुर्माने की राशि वसूल की गई तथा एक जुगाड़ गाड़ी को जब्त किया गया।

उनके द्वारा जानकारी दी गई कि सिमुलेटर के माध्यम से वाहन चालक क्षमता संवर्धन करने हेतु जिला के वैद्य मोटर ट्रेनिंग ड्राइविंग स्कूलों में उन्नत चालन प्रशिक्षण योजना के तहत सिमुलेटर आधारित परफेक्ट मोटर ट्रेनिंग ड्राइविंग स्कूल द्वारा सिमुलेटर आधारित प्रशिक्षण दिया जा रहा है। जानकारी दी गई कि जिले में तीन ड्राइविंग स्कूल का लक्ष्य निर्धारित किया गया था जिसे बढ़ाकर चार कर दिया गया है। इनमें से तीन मोटर ट्रेनिंग ड्राइविंग स्कूलों की स्वीकृति हो चुकी है जिसमें से दो मोटर ट्रेनिंग ड्राइविंग स्कूल का निर्माण कार्य प्रगति पर है।

वही प्रदूषण जांच केंद्र के बारे में जानकारी दी गई 14 प्रखंडों में 68 से बढ़कर वर्तमान में 73 प्रदूषण जांच केंद्र कार्यरत है।वही सुरक्षित परिवहन को बढ़ावा देने तथा यात्रियों के सुरक्षित पड़ाव की सुविधा हेतु ग्रामीण क्षेत्रों में बस स्टॉप का निर्माण किया जाना है। प्रथम चरण में 24 बस स्टॉप के निर्माण के लक्ष्य के विरुद्ध 13 बस स्टॉप का निर्माण हो चुका है। बताया गया कि यातायात उलंघनकर्ताओ के विरुद्ध जुर्माना लगाने के साथ-साथ नियमानुसार 15 चालक अनुज्ञप्ति निलंबन की अनुशंसा की गई है तथा नियमित जांच की कार्रवाई की जा रही है।

बैठक में पुलिस अधीक्षक जयंत कांत, अपर समाहर्ता राजेश कुमार, आरटीओ वरुण कुमार मिश्रा ,सिविल सर्जन डॉ विनय कुमार शर्मा, सिटी एसपी सहित विभिन्न विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।