कोरोना की तीसरी लहर की संभावना को देखते हुए विशेषज्ञ उसे बच्चों के लिए खतरनाक बता रहे है.

0
1826

वैशाली जिला ब्यूरों कौशल किशोर सिंह की रिपोर्ट.

हाजीपुर. वैशाली. गोरौल प्रखंड के बिभिन्न पंचायतों में वैश्विक महामारी कोरोना ने लोगों को जीने का अंदाज ही बदल दिया है. लोग अपने लोगों से ही दुरी बनाकर रहने को विवश हो गया है. पहले जिसे स्वास्थ्य कर्मी आँपरेशन एवं विशेष कार्य के समय लगाते थे. वही मास्क एवं सेनेटाइजर अब लगाने का जीवन रक्षक बन गया है. उसी मास्क व सेनेटाइजर को अनिवार्य कर दिया गया हैं. लोग बिना मास्क के अपने घरों से भी नही निकल रहे है. जिस घर में कोरोना संक्रमण बढ़ा उस घर का हर व्यक्ति अपने घरों में मासक पहनकर एवं समाजिक दुरी का पालन कर अपने घरों में दुबके हुए है.
इस कोरोना काल में लोग संयमित रहने और अपनी दिनचर्या बदल कर रहने को विवश हो गए है. सुबह देर तक सोने वाले व्यक्ति सोने के बजाय लोग व्यायाम करना सिख रहे है. भीड़ भाड़ से दचर वे वजह बाजार एवं शहरों में घुमने, रेस्तरां और होटलों में खाना खाने का शौख भी कोरोना में लोगों का बदल दिया है. लोग महंगे होटलों में खाना खाना भी भुल गये हैं. पहले लोग होटलों में सपरिवार खाना खाने जाने लगे थें. अब सपरिवार खाना खाने के बजाय अपने घरों में ही स्वादिष्ट व्यजंन बनाकर खाना बनाना सीख गये है. पार्टी मनाना हो या सामुहिक खुशियां लोग भुल गये है. लोगो से दुरी बनाकर रहना सीमीत लोगों से उठना बैठना लोगों की दिनचर्या बन गई हैं. कोरोना काल ने लोगों को जीना सीखा दिया हैं. कोरोना से बचने के लिए टीका लगवाना जरुरी है. सरकार अब टीका लगाने के लिए पंचायत स्तर पर मेगा कैंप शुरू की है. सभी लोग टीका आवश्य लगवाये और अपने व अपने परिवार को सुरक्षित बनाए.
कोरोना की तीसरी लहर की संभावना को देखते हुए विशेषज्ञ उसे बच्चों के लिए खतरनाक बता रहे है. बच्चों को सुरक्षित रखने के लिए अभी से लोगों को सजग रहने के लिए जागरूक किया जा रहा है.
इस संबंध में पंचायत के प्रतिनिधियों ने अपना बिभिन्न पक्ष रखा है.
1. पिरोई पंचायत के मुखिया प्रमोद कुमार सिंह ने बताया कि वैश्विक महामारी कोरोना ने लोगों को जीने का अंदाज ही बदल दिया है. लोग अपना जीवन जीने का मानसिक एवं शारीरिक रूप से स्वस्थ्य रहने का प्रयास कर रहे है. स्वस्थ्य रहने के लिए दैनिक जीवन दिनचर्या में भी बदलाव लाये हैं.
2. पुर्व मुखिया सह राजद नेता अमन कुमार मेहता ने बताया कि इस महामारी के बाद लोगो के रहन सहन में काफी बदलाव आया है. जो लोग सुबह देर तक सोने का आदि थे. वह अब सुबह उठकर माँरनिंग वाक् करते है.स्वस्थ्य रहने के लिए हरा साग सब्जी, फल इस्तेमाल करते है. हमेशा मास्क पहनते हैं.सोशल डिस्टैशिंग का पालन करते है.
3. समाजसेवी अनिल कुमार सिंह बताते है कि कोरोना काल में लोग योग भी करना सिख गये है. लोग योग कर किसी तरह स्वस्थ्य रहने की चेष्टा में लगे हुए है.योग हमारे मांस पेशियों को पुष्ट करता है और शरीर को तंदुरुस्त बनाता है, तो वहीं दूसरी ओर योग करने से शरीर से फैट को भी कम किया जा सकता है. . ब्लड शुगर लेवल करे कंट्रोल: योग से आप अपने ब्लड शुगर लेवल को भी कंट्रोल कर सकते है और बढ़े हुए ब्लड शुगर लेवल को घटता है. डायबिटीज रोगियों के लिए योग करना बिलकुल  फायदेमंद है.
4. जदयू अल्पसंख्यक प्रकोष्ट के गोरौल प्रखंड अध्यक्ष अहमद हुसैन उर्फ नूर आलम बताते है कोरोना काल ने लोगों के जीवन स्तर में बदलाव लाया है. महंगे होटलों में खाना खाना तो दुर अपने घरों में ही स्वादिष्ट भोजन बनाकर लोग खाना सिख गये है.
5. पिरोई पंचायत के पुर्व पंचायत समिति सदस्य रिंकू देवी बताते है कि कोरोना काल ने शादी विवाह, पार्टी हो या समाजिक कार्यक्रम लोगों के निर्धारित संख्या के कारण लोगों को परेशानी हो रही हैं.
6. गोरौल क्षेत्र संख्या 08 के जिला पार्षद मनोज पटेल बताते है कि कोरोना से बचने के लिए टीका लगवाना जरुरी है. सरकार अब टीका लगाने के लिए पंचायत स्तर पर मेगा कैंप शुरू की है. सभी लोग टीका आवश्य लगवाये और अपने व अपने परिवार को सुरक्षित बनाए.
7. बकसामा पंचायत के मुखिया मो हासीम बताते है कि कोरोना की तीसरी लहर की संभावना को देखते हुए विशेषज्ञ उसे बच्चों के लिए खतरनाक बता रहे है. बच्चों को सुरक्षित रखने के लिए अभी से लोगों को सजग रहने के लिए जागरूक किया जा रहा है.

8.  कोरोना का तीसरी लहर आनेवाला है इसलिए आप सभी जनता से करबद्ध प्रार्थना है कि आप सभी अपने बच्चों के प्रति हमेशा जागरूक रहे. ताकी हमसभी कोरोना के तीसरी लहर को रोकने में सफल हो.  पंचायत समिति सदस्य सह भावी प्रत्याशी पंकज कुमार पंचायत राज सोंन्धों दुल्ह.