लव गुरू प्रेमी ने प्रेमिका शिष्या से रचाई शादी।

0
439

वैशाली जिला ब्युरों रमेश प्रसाद सिंह के साथ कौशल किशोर सिंह की रिपोर्ट.

यह खबर वैशाली जिले के भगवानपुर प्रखंड क्षेत्र की है। जहां  गुरु को समाज से लेकर शास्त्रों तक देवताओं से भी श्रेष्ठ पिता तुल्य कहा गया है। वही कुछ कलयुगी गुरुजी अपने शिष्य्या् के साथ गुरु शिष्य्या् का रिश्ता छोड़ प्रेम प्रसंग में  शादी तक रचा डालते हैं। इसी कड़ी में आगे भगवानपुर प्रखंड क्षेत्र के निजी कोचिंग संचालक व कोचिंग चलाने वाले एक  लवगुरु  प्रेमी(अमित कुमार) का मामला प्रकाश में आया है। जिन्होंने अपने शिष्या निशा नाम की छात्रा जो अपने शिष्या के साथ पुराने प्रेम प्रसंग को पूर्ण करते हुए फिल्मी अंदाज से शादी तक रचा डाली। अमित कुमार नाम के  लव गुरु प्रेमी जो भगवानपुुुर प्रखंड क्षेत्र के चकस्वरुपन गांव के रहने वाले हैं। और अपने जीवन निर्वहन करने के लिए  प्राईवेेेट    शिक्षण संंस्थान से जुुुुुुुुुड़कर अपने परिवार का परवरिश करने के आड़ मेें समाजिकता, व्यवहारिकता, के साथ अपने नैैतिकता को वेेेगड़ परवाह किए शिक्षकोंं के नाम को कलंंकित करते हुए। शिक्ष।  दान करने के जगह प्रेम प्रसंंग की ऐसी इतिहास रचि है कि चौक चौराहे पर चर्चा की विषय बनी है।

उन्होंने अपने यहां पढ़ने वाली पूर्व छात्रा निशा कुमारी को पढ़ाने से ज्यादा प्रेम करते थें। इसकी जानकारी जब लड़की के पिता एवं अन्य परिवार वालों को लगा तब लड़की वालों के द्वारा दूसरी जाति के लड़का होने के कारण इसका जमकर विरोध किया गया।

जिसके बाद शिक्षक अमित के साथ घरवालों की काफी झड़प भी हुई। इसको देखते हुए लड़की के घरवाले लड़की को लेकर अपने संबंधी के यहां मुजफ्फरपुर स्थित अहियापुर थाना क्षेत्र के अखाड़ा घाट ले गए। जब इसकी जानकारी लवगुरु अमित को लगी, तब उन्होंने महिला कल्याण संस्थान, मुजफ्फरपुर एवं अहियापुर थाना को साथ लेकर लड़की के संबंधी के यहां तक पहुंच गए।

जिसके बाद महिला कल्याण समिति के सदस्यों द्वारा लड़की से पूछताछ करने के बाद दोनों की शादी पास के ही शिव मंदिर में हिंदू रीति रिवाज के साथ संपन्न कराया गया। ऐसे लवगुरु और प्यार में पागल शिष्या को क्या कहा जाए। जो पढ़ने गए कुछ,  और पढ़ाई पढ़ने लगी  ढा़ई आखर प्रेम के और कर बैठे अपने गुरु के साथ शादी।