शिवहर जिला में अबतक 84.4 फीसद कोविड 19 का टीकाकरण

0
94

जिला संवाददाता कौशल किशोर सिंह की रिपोर्ट

– 1984 स्वास्थ्यकर्मियों का टीकाकरण पूरा, अब 371 शेष

शिवहर, 3 फरवरी|
जिले में अबतक 2355 लक्ष्य के विरुद्ध 1984 स्वास्थ्यकर्मियों को कोरोना का टीका लगाया जा चुका है। अब मात्र 371 लोगों को कोरोना टीकाकरण करना शेष रह गया है। जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. अरुण कुमार सिन्हा के मुताबिक अबतक जिला में 84.4 फीसद टीकाकरण किया जा चुका है | । सिविल सर्जन डॉ. आरपी सिंह ने बताया कि अगले एक-दो दिनों में शिवहर जिला में पहले चरण में शत-प्रतिशत टीकाकरण कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि जिले के सरकारी-गैर सरकारी अस्पतालों के चिकित्सक, कर्मी, आशा, सेविका व स्वास्थ्य विभाग की सहयोगी संस्थाएं यूनिसेफ, यूएनडीपी, केयर इंडिया व पाथ आदि के कर्मी समेत जिले के 2355 लोगों ने को-विन साफ्टवेयर पर टीकाकरण के लिए निबंधन कराया था।

मंगलवार को 250 को लगा कोरोना टीका
जिले के पांच केंद्रों पर मंगलवार को पहले चरण के टीकाकरण अभियान के तहत कुल 250 स्वास्थ्यकर्मियों को कोरोना का टीका लगाया गया। पिपराही पीएचसी में सर्वाधिक 90 और सरोजा सीताराम सदर अस्पताल तथा डुमरी कटसरी में 20-20 लोगों का टीकाकरण किया गया। शिवहर पीएचसी और तरियानी में 60-60 लोगों का टीकाकरण किया गया।

टीकाकरण का आंकड़ा बढ़ता गया
16 जनवरी को अभियान के पहले दिन 190, दूसरे दिन 220, तीसरे दिन 190, चौथे दिन 170 ,पांचवें दिन 324, छठे दिन 200, सांतवे दिन 440 व आठवें दिन 250 लोगों का टीकाकरण किया गया।
टीकाकरण के लिए निजी अस्पतालों के 124 चिकित्सक और कर्मियों के अलावा सदर अस्पताल के 180, पुरनहिया पीएचसी के 312, तरियानी पीएचसी के 519, शिवहर पीएचसी के 420, पिपराही पीएचसी के 515 व डुमरी कटसरी पीएचसी के 285 चिकित्सक और कर्मियों ने निबंधन कराया था।

दूसरे चरण के टीकाकरण की तैयारी जारी

दूसरे चरण में फ्रंटलाइन वर्करों का टीकाकरण किया जाएगा। फ्रंटलाइन वर्कर में वह टीम है, जो कोरोना संक्रमितों के इलाज, नियंत्रण व प्रतिरक्षण से प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से जुड़ी रही है। फ्रंटलाइन वर्कर की सूची तैयार करने की प्रक्रिया तेज गति से चल रही है। हर विभाग से कर्मचारियों का ब्योरा मांगा गया है। कर्मचारियों की सूचना कोविन पोर्टल पर अपलोड की जा रही है।
कोरोना काल में इन उचित व्यवहारों का करें पालन,-
– एल्कोहल आधारित सैनिटाइजर का प्रयोग करें।
– सार्वजनिक जगहों पर हमेशा फेस कवर या मास्क पहनें।
– अपने हाथ को साबुन व पानी से लगातार धोएं।
– आंख, नाक और मुंह को छूने से बचें।
– छींकते या खांसते वक्त मुंह को रूमाल से ढकें।