0
79

स्टेट हेड एडिटर राज कुमार राज

जंदाहा प्रखंड रिपोर्टर जितेन्द्र कुमार की रिपोर्ट।

जंदाहा बाजार स्थित कुशवाहा चौक के निकट वैशाली एक्यूप्रेशर योग कॉलेज एंड हॉस्पिटल के छात्र छात्राओं के लिए शनिवार से पठन पाठन प्रारंभ करने से पूर्व दीप प्रज्वलित किया गया .
ज्ञात हो की कोबिड 19की वजह से सरकार के निर्देश पर सभी स्कूल, कालेज को बंद कर दिया गया था परंतु सरकार की गाइड लाइन के अनुसार पुनः बंद हुए कुछ स्कूल कालेजों को खोलने का निर्णय लिया गया है.


उसी के तहत वैशाली एक्यूप्रेशर योग कॉलेज एंड हॉस्पिटल जंदाहा के छात्र छात्राओं के लिए पुनः कक्षा का संचालन प्रारंभ किया गया है.
मुख्य अतिथि के तौर पर बिहार एक्यूप्रेशर योग कॉलेज के अध्यक्ष एक्यूप्रेशर महागुरु डॉक्टर सर्व देव प्रसाद गुप्त ने छात्र छात्राओं को प्रथम प्रशिक्षण दिया. उन्होंने पंचतत्व सिद्धांत के बारे में छात्र छात्राओं को बताते हुए डॉक्टर गुप्त ने कहा कि एक्यू प्रेशर चिकित्सा पद्धति द्वारा रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाया जा सकता है तथा शरीर में जनित रोगों को सुलभता पूर्वक ठीक किया जा सकता है. कोरोना वायरस में भी एक्यूप्रेशर चिकित्सा पद्धति बहुत ही लाभदायक साबित हुआ है.


पटना से आए हुए एक्यूप्रेशर योग कालेज के सचिव अजय प्रकाश ने छात्र छात्राओं को एक्यूप्रेशर चिकित्सा पर व्याख्यान दिया. सूक्ष्म सर्व दान सिद्धांत की विवेचना करते हुए उन्होंने बताया कि बिना नुकसान के सरलता सेसरलता पूर्वक एक्यू प्रेशर द्वारा डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, सटिका, माइग्रेन सहित मनुष्य के शरीर के अंदर अन्य सभी रोगों पर सफलतापूर्वक प्रभाव पड़ता है तथा शरीर को रोग मुक्त कर देता है.
वैशाली एक्यूप्रेशर योग कॉलेज एंड हॉस्पिटल जंदाहा के निदेशक डॉ पप्पू कुमार सिंह द्वारा बताया गया कि कोविड 19 को देखते हुए सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक सोसल डिस्टेंस के साथ सैनिटाइजर एवं मास्क आदि का विशेष ध्यान रखते हुए सप्ताह में 3 दिन कक्षाएं चलाई जाएगी.
कालेज के निदेशक पप्पू कुमार सिंह ने मुख्य अतिथि को फुल माला पहनाकर स्वागत किया तथा अंग वस्त्र देकर सम्मानित किया.


मौके पर विष्णु देव कुशवाहा, प्रमोद कुशवाहा, किरण पंडित, हेमलता कुमारी, मुकेश सिंह, धर्मेंद्र कुमार, समीर किसन, अजीत कुमार ,अमरजीत कुमार, रामजीवन पंडित, जितेंद्र कुमार, सुनील कुमार झा, चंदन कुमार, रोशन कुमार, रुकमणी कुमारी, रिंकू कुमारी, रिंकू कुमारी आदि मौजूद थे.