रक्तदान करना सबसे बड़ा परोपकार कार्यहै–निदेशक राकेश

0
66

रमेश प्रसाद सिंह,वैशाली जिला  ब्यूरो  की रिपोर्ट
वैशाली।
रक्तदान करना सबसे बड़ा परोपकार का कार्य है। जैसे कोई भी व्यक्ति दीन दुखियों को सेवा कर परोपकार का कार्य करता है। उससे बड़ा परोपकार का कार्य जीवन में रक्तदान कर दुसरे के जीवन को अमृत देने के समान है। ऐसे कार्य को हरेक मनुष्य को करना चाहिए। ताकि वर्तमान परिस्थितियों में हरेक मनुष्य का जीवन हर क्षण खतरे भरा है। किसी भी क्षण किस परिवार को रक्त की आवश्यकता पड़ जाय। ऐसी स्थिति से निपटने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को जीवन में कम से कम एक बार रक्तदान आवश्यक करना चाहिए। उक्त बातें प्रखंड क्षेत्र अन्तर्गत प्राचीन श्री विष्णु मंदिर सेहान के प्रागंण में श्री विष्णु नाटयकला परिषद सेहान के बैनर तले आयोजित रक्तदान शिविर का विधिवत् उद्घाटन करने के उपरांत समारोह को संबोधित करते हुए रंगलाल चैरिटेबल ट्रस्ट के निदेशक राकेश रजंन ने कहीं।
श्री विष्णु नाट्यकला परिषद् के निदेशक नंद किशोर ने जानकारी देते हुए बताया कि हर साल की भांति इस भी रक्त शिविर आयोजित की गई है। शिविर में 207 लोगों ने स्वैच्छिक रक्तदान किया है। रक्तदान करने वाले प्रत्येक व्यक्ति के संस्था द्वारा एक कार्ड जारी किया जाता है। वैसे कार्ड धारकों की सहमति से जरुरत मंद लोगों को रक्त मुहैया कराती है। रक्त मुहैया पटना, मुजफ्फरपुर, दिल्ली जैसे शहरों जरुरत मंद लोगों को रक्त की सहायता प्रदान करता है। निरायमया बल्ब बैंक पटना व सीटी बल्ड बैंक मुजफ्फरपुर के चिकित्सक समेत अन्य कर्मी तत्परता से कार्य में जुटे हुए थे।
इस मौके पर परिषद के सदस्य के अलावा समाज सेवा करने वाले लोग सक्रिय भूमिका निभा रहे थे।