जिला स्तरीय कार्यकर्ता कन्वेंशन ने वारिसनगर विधानसभा सीट जीतने के लिए कार्यकर्ताओं से मैदान में उतरने को कहा

0
93

मोहम्मद सिराज कि रिपोर्ट 

जिला स्तरीय कार्यकर्ता कन्वेंशन ने वारिसनगर विधानसभा सीट जीतने के लिए कार्यकर्ताओं से मैदान में उतरने को कहा

खानपुर 1 अक्टूबर ’20

वारिसनगर विधानसभा सीट जीतने के उद्देश्य से भाकपा माले क्षेत्र में विधानसभा चुनाव लड़ेगी. खानपुर के सिरोपट्टी खतुआहा स्थित उच्च विद्यालय पर गुरूवार को भाकपा माले के जिला स्तरीय कार्यकर्ता कन्वेंशन को बतौर मुख्य वक्ता संबोधित करते बतौर राज्य कमिटी सदस्य सह समस्तीपुर जिला सचिव प्रो० उमेश कुमार ने कहा.

कन्वेंशन की अध्यक्षता 5 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल के सदस्य क्रमशः सुखलाल यादव, अमित कुमार, बंदना सिंह, प्रेमानंद सिंह, महावीर पोद्दार ने की. संचालन खेग्रामस के जिला सचिव जीबछ पासवान ने की. फूलबाबू सिंह, सत्यनारायण महतो, रामचंद्र पासवान, सुरेन्द्र प्रसाद सिंह, दिनेश सिंह, उपेंद्र राय, मिथिलेश कुमार, मो० सरफराज अहमद, मो० अलाउद्दीन, अवधेश कुमार, जगतारण देवी, शांति देवी, महेश कुमार, राजकुमार चौधरी, रमाशंकर सक्सेना, कल्पू राम, संजीत पासवान, मो० कलालुद्दीन, फिरोजा बेगम, फूलेंद्र प्रसाद सिंह, सुनील कुमार,गंगा पासवान, लोकेश राज, जुतेंद्र सहनी, मो० फरमान, शिवनाथ महतो, डा० खुर्शीद खैर, रामचंद्र प्रधान, राम कुमार, चंद्रवीर कुमार, कृष्ण कुमार, उमेश कुमार समेत अन्य दर्जनों आइसा, इनौस, ऐपवा, किसान महासभा, खेग्रामस, एक्टू, इंसाफ मंच, माले के कार्यकर्ताओं ने कन्वेंशन को संबोधित किया.

माले राज्य कमिटी सदस्य सह जिला सचिव प्रो० उमेश कुमार ने कहा कि यह लड़ाई भाजपा- जदयू के संविधान, लोकतंत्र विरोधी रवैया के खिलाफ शिक्षा, रोजगार, स्वास्थ्य, विकास, मान- सम्मान के साथ ही सामाजिक- राजनीतिक दावेदारी, विकास और प्रगति के भाकपा माले लड़ रही है. इस क्षेत्र में दलित- गरीब, दबे-कुचले, अक्लियत समेत अन्य सभी वर्गों की लड़ाई माले सदियों से लड़ती आ रही है. उन्होंने कहा कि सत्ताधारी दल के विधायक 10 वर्षों से हैं लेकिन राशन, मनरेगा, आवास, शौचालय, दाखिल- खारिज सडक, नाला जैसे कल्याणकारी एवं विकास योजना लूट-भ्रष्टाचार भ्रष्टाचार से ग्रसित है. क्षेत्र में खेत-खती- किसान बचाने की चुनौती बरकरार है. सही खाद, बीज, सिचाई, बिजली और उपज का का अधिक दाम दिलानकर किसान को खुशहाल के रास्ते ले जाना बाकी है. मनरेगा को विचौलियों के कब्जे से मुक्त कराकर मजदूरों को काम दिलाना है. विधायक को काम से नहीं कमीशन से मतलब रहता है. 10 वर्षों में विधायक न तो विधानसभा में और न ही क्षेत्र में क्षेत्र की समस्याओं के प्रति गंभीर दिखे. ऐसे में भाकपा वारिसनगर, खानपुर, एवं शिवाजीनगर के सामाजिक- राजनीतिक दावेदारी, विकास और प्रगति के लिए विधानसभा चुनाव जीतने की कोशिश करेगी. मौके पर कार्यकर्ताओं को पंचायत स्तर पर लगकर तन- मन-धन से चुनाव को अपने पक्ष में कर लेने की अपील की गई.