काला कानून वापस लेने की मांग को लेकर किसानों ने घंटों एनएच-28 का चक्का जाम किया

0
286

समस्तीपुर से जिला ब्यूरो मोहम्मद सिराज कि रिपोर्ट
* काला कानून वापस लेने की मांग को लेकर किसानों ने घंटों एनएच-28 का चक्का जाम किया
* किसान विरोधी नीतीश- मोदी सरकार को सत्ता से बेदखल करेंगे किसान- ब्रहमदेव प्रसाद सिंह
हाल ही में लोकसभा एवं राज्य सभा से पास किसान विरोधी तीनों काला कानून वापस लेने की मांग को लेकर शुक्रवार को अखिल भारतीय किसान महासभा एवं भाकपा माले के कार्यकर्ताओं ने मोतीपुर खैनी गोदाम से जुलूस निकाला. अपने -अपने हाथों में झंडे, बैनर एवं मांगों से संबंधित नारे लिखे तख्तियां लिए नारे लगाते हुए कार्यकर्ता बाजार क्षेत्र का भ्रमण कर गांधी चौक पहुंचकर एन एच-28 का चक्का जाम कर दिया. जाम से सड़क की दोनों ओर गाड़ियों का तांता लग गया.
मौके पर सभा का आयोजन भी किया गया. शंकर सिंह, प्रभात रंजन गुप्ता, कुशेश्वर शर्मा, उपेंद्र शर्मा, मो० साहील, जगदेव सिंह,राजदेव प्रसाद सिंह, रजिया देवी, सोनिया देवी, अनीता देवी, संजीव राय, मुकेश कुमार गुप्ता, मनोज साह, रामबाबू सिंह, अर्जुन शर्मा, मो० गुलाब, जवाहर सिंह, सुखदेव सिंह, रकटू सिंह, मो० साबीर, धर्मेंद्र पासवान, भाकपा माले प्रखण्ड सचिव सुरेन्द्र प्रसाद सिंह समेत अन्य नेताओं ने सभा को संबोधित किया.
सभा की अध्यक्षता करते हुए किसान नेता ब्रहमदेव प्रसाद सिंह ने कहा कि दिए लाभ के लिए मोदी सरकार किसानी को कारपोरेट घराने के हवाले कर रही है. इससे पहले से ही परेशान किसान और अधिक परेशान होंगे.यह कानून किसानों को कम कीमत पर अपने उपज बेचने का मजबूर करेंगे. उन्होंने कहा कि सरकार तीनों काला कानून वापस लें अन्यथा किसान चुनाव में सरकार को मजा चखाएगी. प्रखण्ड विकास पदाधिकारी से वार्ता कर मांगों पर कारबाई के आश्वासन के बाद जाम समाप्त किया गया.