सकरा विधायक लाल बाबू राम के खिलाफ ग्रामीणों का फूटा आक्रोश, जमकर कोसा

0
183

सकरा विधानसभा अंतर्गत जोगनी गांव के तटबंध टूटने के बाद बाढ़ की गंभीर समस्या जोगनी गांव के सामने आ पहुंची है. चारों तरफ जलजमाव है सड़कों पर पानी का साम्राज्य है फसल पूरी तरीके से डूब चुकी है और आपदा प्रबंधन या बाढ़ राहत के नाम पर कोई भी सुविधा ग्रामीणों को उपलब्ध नहीं कराई जा रही है।

सकरा विधायक लाल बाबू राम आज टूटे हुए तटबंध का मुआयना करने पहुंचे जहां ग्रामीणों ने उन पर जमकर अपने गुस्से का इजहार किया। ग्रामीणों ने विधायक का घेराव कर उनसे सवालों की बौछार कर दी। ज्ञात हो कि राष्ट्रीय जनता दल से टिकट पाकर जिला पार्षद के पद से विधायक बने लालबाबू राम के खिलाफ ग्रामीणों में जबरदस्त आक्रोश है। ग्रामीणों का कहना है कि विधायक सिर्फ वोट लेने के लिए उनके पास आए और उसके बाद कभी उनकी सुध नहीं ली गई। तटबंध टूटने के बाद डूबती फसल और मवेशियों की दुर्दशा देखकर यह प्रतीत होता है कि तटबंध मरम्मत के नाम पर कभी कुछ भी नहीं किया गया। ग्रामीणों का कहना है कि कभी भी बांध की मरम्मत का काम नहीं कराया गया है जिसके परिणाम स्वरूप कराने नदी पर बना हुआ बांध कई जगह से टूट रहा है। ग्रामीण अपने स्तर से अपनी सुरक्षा की व्यवस्था करते हैं।ग्रन्मिणों मे प्रमुख रूप से विधायक से सवाल पुच्छने वाले मे प्रकाश कुमार, कुणाल अभिषेक, पंचायत समिति सदस्य आशुतोष ठाकुर, पप्पू जी व्यास और कई महिलाएँ शामिल थी.

आज जब सकरा विधायक तटबंध का मुआयना करने पहुंचे तो ग्रामीणों ने उनका घेराव किया और जमकर कोसा विधायक चुपचाप सुनते रहे और आश्वासन देकर चले गए।