सुहागिन महिलाओं ने पति के दीर्घायु होने को लेकर परिक्रमा की.

0
346
वैशाली जिला संवाददाता कौशल किशोर सिंंह की रिपोर्ट.

वैशाली जिला केे गोरौल प्रखंंड क्षेत्र के बिभिन्न जगहों पर  हरियाली  सोमवती अमावस्या को सुहागिन महिलाओं ने अपने पति के दीर्घायु होने की कामना को लेकर  पीपल के पेड़ में धागा लपेट कर परिक्रमा की. वहीं विधिवत भगवान शिव की पूजा, अर्चना एवं अभिषेक किया. मान्यता है कि इस दिन पीपल, बट वृक्ष या तुलसी की परिक्रमा कर धागे लपेटने से पति दीर्घायु होता है. सावन मास की सोमवती अमावस्या हरियाली अमावस्या के रूप में लोग मनाते आ रहे हैं. इस वर्ष की हरियाली अमावस्या विशेष महत्वपूर्ण है. जो बहुत साल के बाद आया है. विद्वान ज्योतिषियों के अनुसार 45 वर्षों के बाद संयोग बना है. इस दिन शिव, पार्वती कार्तिके,  गणेश की पूजा और अभिषेक करने से कई जन्मों के पाप नष्ट हो जाते हैं.  गोरौल प्रखंड क्षेत्र के बिभिन्न जगहों  प्रेमराज, पिरोई, छितरौली, कोरिगांव, मंजिया, बकसामा, इसमाईलपुर, सोन्धों, पोझा, बड़ेबा, लोदीपुर, रामदासपुर, पीरापुर, मधुरापुर, रुसुलपुर आदि गांवों में  झुंड के झुंड बनाकर महिलाओं ने हरियाली सोमवती अमावस्या को उपवास करके भगवान शिव की पूजा की और पीपल के वृक्ष की 108 बार परिक्रमा कर धागा लपेटा. वही अनीता देवी, सीता देवी, शीला देवी, कौशल्या देवी, रेणु देवी, ममता देवी, गीता देवी ,आदि ने बताया कि कोरोना को लेकर लचर स्वास्थ्य व्यवस्था पर भगवान शिव की शरण के अलावा दुसरा कोई विकल्प नहीं है.