खुद को बलवान मत समझो वर्ना जिंदगी होगी भारी

0
121

वैशाली(। जिला ब्युरो)

जिंदगी हम सफ़र का  साथी है इसे कभी ना भुलाना। ऐसी प्यारी जिंदगी के साथ  खिलवाड़ नहीं करना। वर्ना जिंदगी हो जायेगा   नरक।

कोरोना से जंग जीतने वालों ने कोरोना के प्रति लापरवाही नहीं बरतने की दी सलाह

खुद को न समझे सबसे मजबूत, जिंदगी पर पड़ सकती है भारी।

कोरोना का प्रभाव कम होने का नाम नहीं ले रहा है। इससे समाज का प्रत्येक तबका प्रभावित हो रहा है। कोरोना के प्रभाव का सामाजिक और शारिरिक परिपेक्ष्य को जानने के लिए जिले के कुछ कोरोना विजेताओं से बात की गयी। नतीजा यह निकल कर आया कि आपकी एक छोटी सी चूक भी आपको कोराना का शिकार बना सकता है।

कोरोना वायरस का जो सबसे घातक तथ्य है वह यह कि इसका प्रसार बहुत तेजी से होता है। इस कारण यह वायरस ज्यादा से ज्यादा लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। जितना खतरनाक यह वायरस है उतना ही छोटा प्रयोग इसके बचाव का है। कोरोना से बचाव के तथ्यों के बारे में केयर के जंदाहा प्रखंड के ब्लॉक मैनेजर राजेश रंजन कहते हैं उन्होंने अपने क्षेत्र में तीन बातों का प्रसार अधिक करते हैं, जिसमें सामाजिक दूरी, मास्क का इस्तेमाल एवं बार-बार हाथ धोना शामिल है. उन्होंने बताया कभी-कभी आम लोगों को यह नहीं पता होता है कि वे कोरोना संक्रमण के शिकार हैं या नहीं, क्योंकि उनमें कोई लक्षण भी नहीं होता। ऐसे में एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते उनका फर्ज है कि वह लोगों से शारिरिक दूरी बना कर रखें. हमें चाहिए कि हम कोरोना को हराने में समाज की मदद करें ताकि लोग स्वस्थ रह सकें एवं देश तरक्की की राह पर आगे बढ़ सके.

क्या कहते हैं कोरोना से जंग जीतने वाले:

‘’मैं कोरोना पॉजीटिव हो चुका हूं। इसमें मुझे ठीक 15 दिन लगे। ठीक होने के बाद लोगों से कहना चाहता हूं कि लोग जाने- अनजाने कोरोना संक्रमण के शिकार हो रहे हैं। इससे बचने के जो सरल नियम हैं वह यह कि लोग बिना काम के बाहर न निकलें, मास्क का उपयोग सदैव करें’’
धर्मेन्द्र राम, ग्राम – भाथही, जंदाहा
‘‘मैं पिछले महीने ही कोरोना संक्रमित हुआ था। जब आप संक्रमित हो जाते हैं तो बहुत धैर्य और साहस की जरुरत होती है। मेरा कहना है कि सरकार के द्वारा कोरोना से बचने के लिए जो भी कदम उठाए जा रहे हैं। उनको स्वीकार करें। मास्क पहनें । लोगों से शारिरिक दूरी बनाए रखें’’.
जीतेन्द्र राम , जंदाहा

‘‘मैं कलकत्ता से प्राइवेट वाहन से आया था। रास्ते में कहां संक्रमित हुआ पता नहीं चला। हाजीपुर कोविड केयर सेंटर में 14 दिन रहने के बाद जब ठीक हुआ। मैं अभी भी लोगों को सलाह देता हूं कि सरकार के निर्देशों का लोग पालन करें। घर से निकलने पर मास्क लगाकर चलें। समय -समय पर हाथ धोते रहें। शारिरिक दूरी को बना कर रखें। लापरवाह न बनें’’
अंजनी सिंह, वैशाली प्रखंड