सब्जी उत्पादकों को खपत के कमी से घाटा

0
114

वैशाली जिला ब्युरो (पटेढ़ी बेलसर संवाददाता)।

वैशाली जिले अन्तर्गत पटेढ़ी बेलसर प्रखंड क्षेत्र में हरी सब्जियों के अच्छी उत्पादन की वजह से इसकी कीमतों में गिरावट आयी हैं।.किसानों को उनकी उपज की सही कीमत नहीं मिल पा रही है‌।किसान स्थानीय व्यापारियों से काफी कम कीमत पर अपनी सब्जी बेच रहे हैं।,स्थिति ऐसी हो गई है कि लागत निकलना भी मुश्किल हो गया है,।करोना को लेकर जारी लॉकडाउन के बाद जब बाजार खुली तो किसानों को उम्मीद थी कि हरी सब्जियों के भाव बढ़ेंगी। लेकिन उम्मीद से उत्तर लॉकडाउन के दौरान सब्जियां जिस कीमत पर बिक रही थी । उससे भी कम कीमत पर अभी सब्जियां बिक रही है।लॉकडाउन के दौरान प्रखंड क्षेत्र में सब्जियों की पैदावार कम थी। लेकिन अभी खेत से भरपूर मात्रा में सब्जी निकल रही है। मौसम खेती के अनुकूल है, सब्जी व्यापारियों का कहना है कि मांग से अधिक उत्पादन होने की वजह से कीमतें काफी कम हो गई है,।दूसरे जिले की मंडियों में खपत से दो से 3 गुना अधिक हरी सब्जियां पहुंच रही है। किसी किसी दिन तो मंडी के थोक व्यापारी भी सब्जी की खरीदारी करने से हाथ खड़े कर देते है।, किसानों को वापस लौटना पड़ता है।, सब्जी उत्पादन किसानों ने बताया कि इस वर्ष समय समय बारिश होते रहने से सब्जी की उप आज काफी अच्छी हुई है।किसानों को फसल की सिंचाई से भी राहत मिली है।खेतों में नवमी रहने से पौधों के विकास के साथ सब्जी का उत्पादन भी अच्छी हो री है,। किसानों को भाव नहीं मिलने से लगत निकालना भी मुश्किल है। सब्जी मंडी में बाहरी व्यापारी के कम आने से भी सब्जी के सही कीमत नहीं मिल पा रही है।कृषि समन्वयक उमेश प्रसाद सिंह ने कहा कि प्रखंड क्षेत्र में सब्जी की खेती का लक्ष्य 540 हेक्टेयर था। किसानों ने 432 हेक्टेयर भूमि पर सब्जी की खेती की है। इस बार मौसम भी खेती के अनुकूल रह रहा है।मांग से ज्यादा उत्पाद होने तथा दूसरे शहर के व्यापारी के कम आने की वजह से सब्जियों के सही दाम किसान को नहीं मिल रहा है।