दीवाली और छठ पूजा तक गरीबों को मिलेगा मुफ्त राशन, 80 करोड़ लोगों को होगा लाभ*

0
232

 

माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी का संदेश.

देश में जारी कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को संबोधित कर रहे हैं. कोविड-19 के कारण देश में उपजे संकट के बीच ये प्रधानमंत्री का राष्ट्र के नाम छठा संबोधन है. पीएम मोदी ने घोषणा की कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत गरीबों को मुफ्त राशन की योजना को पांच महीने बढ़ाया जा रहा है. अब ये योजना नवंबर तक देश में लागू रहेगी. इस योजन के तहत गरीबों को 5 किलो मुफ्त गेंहू या चावल और एक किलो चना दिया जाएगा. प्रधानमंत्री ने कहा कि इस योजना को नंवबर तक लागू करने में 90 हजार करोड़ का अतिरिक्त खर्च आएगा. पीएम ने ये भी कहा कि जब से ये योजना शुरू हुई है तब से नवंबर तक इसमें डेढ़ लाख करोड़ तक का खर्च आएगा.

पीएम मोदी ने कहा कि हम कोरोना के साथ-साथ ऐसे मौसम की ओर बढ़ रहे हैं जहां पर तमाम तरह की बीमारियां होती हैं ऐसे में सभी को अपना ध्यान रखने की जरूरी है. मेरा आपसे विनम्र निवेदन है कि अपना ध्यान रखें. पीएम मोदी ने कहा अनलॉक होने के बाद से लापरवाही बढ़ रही है. पहले मास्क लगाने और 2 गज की दूरी और हाथ धोने को लेकर हम सतर्क थे लेकिन जब ज्यादा ध्यान रखना है को हम लापरवाही बरत रहे हैं. हमें फिर से पहले जैसी सतर्कता दिखाने की जरूरत है, खासकर कि कंटेनमेंट जोन में. नियमों का पालन न करने वालों को रोकना, टोकना और समझाना भी होगा.

पीएम मोदी ने कहा कि भारत में स्थानीय प्रशासन को चुस्ती से काम करना होगा ताकि लोग लापरवाही न बरतें. भारत में चाहें गांव का प्रधान हो या देश का प्रधानमंत्री कोई भी नियमों से ऊपर नहीं है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान सभी की ये कोशिश रही कि हमारा कोई भी गरीब भाई-बहन भूखा न सोये. सरकारों, स्थानीय प्रशासन, सिविल सोसायटी की ओर से सभी को भोजन मुहैया कराया गया.

पीएम मोदी ने कहा कि लॉकडाउन के बाद किसी को कोई परेशानी न हो इसके लिए तुरंत प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना की शुरुआत की गई जिससे गरीबों के खाते में सीधे पैसे ट्रांसफर किये गए. किसान सम्मान कल्याण योजना के अंतर्गत किसानों को भी उनके जन-धन खातों में सीधे पैसे ट्रांसफर किए गए.

पीएम मोदी ने कहा कि त्योहारों का भी समय आ रहा है ये समय जरूरत और खर्च भी बढ़ाता है.

इससे पहले पीएम मोदी ने 12 मई को देश को संबोधिक करते हुए 20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा की थी. पीएम मोदी का ये संबोधन कई मायनों में खास है क्योंकि एक तरफ जहां भारत में कोरोना वायरस के मामले साढ़े पांच लाख से ज्यादा हो गए हैं तो वहीं भारत और चीन के बीच सीमा पर तनातनी बरकरार है. इसके अलावा भारत की पहली कोविड-19 वैक्सीन को पहले और दूसरे चरण के ह्यूमन ट्रायल की भी डीजीसीआई से मंजूरी मिल गई है.

https://chat.whatsapp.com/IaZUwBSWuiS9BflDqOfVng