वैशाली के लाल रतन रंजन विश्व पर्यावरण संरकरक्षण दिवस की जागरूकता

0
86

वैशाली (जिला ब्युरो)!

विश्व पर्यावरण दिवस पर्यावरण की सुरक्षा और संरक्षण हेतु पूरे विश्व में मनाया जाता है। इस दिवस को मनाने की घोषणा संयुक्त राष्ट्र ने पर्यावरण के प्रति वैश्विक स्तर पर राजनीतिक और सामाजिक जागृति लाने हेतु वर्ष 1972 से की  गई थी। इसे 5 जून से 16 जून तक संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा आयोजित विश्व पर्यावरण सम्मेलन में चर्चा के बाद शुरू किया गया था। 5 जून 1974 को पहला विश्व पर्यावरण दिवस मनाया गया। सन्न 1972 में संयुक्त राष्ट्र द्वारा मानव पर्यावरण विषय पर संयुक्त राष्ट्र महासभा का आयोजन किया गया था। इसी चर्चा के दौरान विश्व पर्यावरण दिवस का सुझाव भी दिया गया और इसके दो साल बाद, 5 जून 1974 से इसे मनाना भी शुरू कर दिया गया। 1987 में इसके केंद्र को बदलते रहने का सुझाव सामने आया और उसके बाद से ही इसके आयोजन के लिए अलग अलग देशों को चुना जाता है।आज पूरा विश्व पर्यावरण दिवस मना रहा है, ऐसे में आज हम आपको अपने जिला वैशाली के एक ऐसे व्यक्ति के बारे में बताएँगे जिन्होंने साइकिल पर सवार होकर महज 5 महीने में पूरा देश भ्रमण कर लिया था.

वैशाली जिला के पटेढ़ी बेलसर ब्लॉक के बिलवर गांव क

निवासी उपेन्द्र सिंह के पुत्ररतन रंजन उपेंद्र सिंह ।है।पर्यावरण संरक्षण के लिए साइकिल अभियान चला चुके है जिसके तहत उन्होंने कुछ सालो पहले महज 153 दिनों में भारत भ्रमण करते हुए 49000 किलोमीटर की साइकिल यात्रा की थी.

भारत भ्रमण के दौरान उन्होंने दिल्ली में सीएम अरविंद केजरीवाल, फिल्म एक्टर सलमान खान, करीना कपूर समेत अन्य बड़ी बड़ी हस्तियों से मुलाकात किया था. मुंबई में रतन कपिल शर्मा के कॉमेडी शो में भी पहुंचे थे जहा पर उनकी मुलाकात आतिफ असलम से हुई थी.मुजफ्फरपुर । साइकिल चलाओ-पर्यावरण बचाओ का पैगाम लेकर सलमान खान का फैन रतन रंजन एशिया के देशों में जाना चाहते हैं। इसके लिए वे बिहार के अधिकतर सांसद एवं मंत्रियों से मिलकर सहयोग की अपील कर चुका है।

सबने उसे सहयोग का आश्वासन दिया है। रतन की इच्छा है कि वो पर्यावरण संरक्षण का पैगाम लेकर चीन, जापान, भूटान, नेपाल, बांग्लादेश, श्रीलंका, पाकिस्तान, म्यांमार आदि देश का साइकिल से भ्रमण करे। बेलवर वैशाली के रतन रंजन ने साइकिल से सभी राज्यों से गुजरते हुए 49,000 किमी भारत भ्रमण 5 महीने से भी कम समय में पूरा किया। ग्रीन गो बाइसाइकिलिंग अर्थात पर्यावरण स्वच्छ रखने के लिए साइकिल चलाने का संदेश प्रचारित करने के प्रयोजन से उसने चार अगस्त 2013 को वैशाली से अपनी यात्रा की और तीन जनवरी 2014 को उसकी गृह वापसी हुई। कम समय में साइकिल से भ्रमण की वजह से उसका नाम लिम्का बुक ऑफ रिका‌र्ड्स में भी दर्ज हुआ।पटना से चलकर बिहार भ्रमण कर पर्यावरण के प्रति जन जागरण करने वाले तथा राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित रतन रंजन का सिवान आगमन पर स्वागत करते हुए सम्मानित किया गया। इस मौके पर The success mirror के संस्थापक विनय प्रकाश तथा सुबोध कुमार की अध्यक्षता में रतन रंजन जी ने छात्रों को संबोधित करते हुए पर्यावरण को संरक्षित करने के अलग अलग तरीको को समझाया साथ ही अपनी जीवन की यात्रा का वर्णन किया।।